‘नो ट्रिपल तलाक़’, बोल कि लब आज़ाद हैं तेरे

Adil Raza Khan
इनदिनों ट्रिपल तलाक़ का मुद्दा छाया हुआ है। इससे पहले बिलकुल छाए में था। ठीक उसी तरह जिस तरह धूप लग जाने और रंग स्याह पड़ जाने का हवाला देकर औरतों

Continue Reading

एक लेखक की खुदकुशी और सन्नाटा

आज, जब एक लेखक मरा है, एक बुजुर्गवार ने खुदकुशी की है, हम तक सबसे पहले बस्तर को पहुंचाने वाले शख्स' ने मौत के रूप में एक बार फिर गुमनामी को चुना

Continue Reading

रोहित की जि़ंदगीः परतदार दर्द की उलझी हुई दास्ताँ

यही वह वर्ष था जब रोहित की दत्तक नानी अंजनी देवी ने उन घटनाक्रमों को प्रारंभ किया, जिन्हें बाद में इस शोधार्थी ने अपने आत्महत्या नोट में गूढ़ रूप

Continue Reading

आखिर क्यों हो रहा है देश भर में भारत-जापान परमाणु समझौते का विरोध?

जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे अगले हफ्ते तीन दिनों की यात्रा पर भारत आएँगे। इस दौरान उनके बनारस दौरे के तामझाम के अलावा जो मुख्य बात होनी है वह

Continue Reading

घृणा और हिंसा को स्टेट पावर का समर्थन हासिल है

धर्म आधारित फासीवाद जाति और जेंडर के स्तर पर हिंसा को वैधता प्रदान करता है : उमा चक्रवर्ती घृणा और हिंसा को स्टेट पावर का समर्थन हासिल है : उमा

Continue Reading

मेरे लेखकों! तुम्हें इंतज़ार किसका है और कब तक?

लोगों के संघर्षों को महज़ अपनी कहानियों और कविताओं में जगह देने से बात नहीं बनने वाली, न ही आपका पुरस्‍कार लौटाना जनता की अभिव्‍यक्ति की आज़ादी

Continue Reading