Arts And Aesthetics

writers-returning-awards-802-x-460

मेरे लेखकों! तुम्हें इंतज़ार किसका है और कब तक?

लोगों के संघर्षों को महज़ अपनी कहानियों और कविताओं में जगह देने से बात नहीं बनने वाली, न ही आपका पुरस्‍कार लौटाना जनता की अभिव्‍यक्ति की आज़ादी को बहाल कर पाएगा. अगर आप ऐसा वाकई चाहते हैं, तो आपको इसे जीवन-मरण का सवाल बनाना पड़ेगा. आपको नवजागरण का स्‍वर बनना पड़ेगा.

Politics & Society

satman

एक लेखक की खुदकुशी और सन्नाटा

आज, जब एक लेखक मरा है, एक बुजुर्गवार ने खुदकुशी की है, हम तक सबसे पहले बस्तर को पहुंचाने वाले शख्स’ ने मौत के रूप में एक बार फिर गुमनामी को चुना है, तो सब चुप हैं. कोई बस्तर की अपनी किताब पर पुरस्कार लेकर चुप है, कोई बस्तर के नाम पर विदेशी अनुदान लेकर चुप है, कोई बस्तर की किताब को सीढ़ी बनाकर विदेश में बस चुका है.

The New Feudals

singrauli

सिंगरौली: इंसान और ईमान का नरक कुंड-2

शहर के कुछ राजनीतिक कार्यकर्ता यह सवाल ज़रूर उठाते हैं कि जब कोयला खनन करने वाली कंपनी महान कोल में एस्‍सार और हिंडालको की आधा-आधा हिस्‍सेदारी है, तो फिर सारा का सारा विरोध एस्‍सार का ही क्‍यों किया जा रहा है.

World View

Untitled-1

बीमा विधेयक: भारतीय संसद ऐसे बनी अमेरिकी हितों की मैनेजर

(प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दस महीने में पहली ऐसी कामयाबी मिली है जो वाशिंगटन में बैठे उनके आकाओं के दिलों को चढ़ती गर्मी में ठंडक पहुंचाएगी। कल यानी 12 मार्च को संसद में छह साल से लटका बीमा विधेयक पारित कर दिया गया। इसके मुताबिक भारत के बीमा क्षेत्र में प्रत्‍यक्ष विदेशी निवेश की सीमा

Top