तृणमूल कांग्रेस में बिखराव शुरू, विधायकों-पार्षदों की पहली खेप हुई भाजपाई

Sharing is caring!

तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के दो विधायक सुभ्रांशु राय और तुषारकांति भट्टाचार्य, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीएम) का एक विधायक देवेंद्र रॉय सहित 50 से ज्यादा पार्षद मंगलवार को दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल हो गए. इनमें कचरापाड़ा के 16, हालीशहर के 18 और नैहाटी के 17 पार्षद शामिल हैं.

इन सभी को बंगाल के भाजपा नेता मुकुल रॉय दिल्ली लेकर पहुंचे, जहां पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय की मौजूदगी में सभी ने सदस्यता ली. शुभ्रांशु राय भाजपा नेता मुकुल राय के पुत्र हैं जिसे हाल ही में ममता बनर्जी ने टीएमसी से निलंबित कर दिया था. इस तरह से अब बंगाल की तीन नगरपालिकाएं बीजेपी के कब्जे में आ गई हैं.

लोकसभा चुनाव में बड़ा झटका लगने के बाद ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस के लिए 28 मई 2019 का दिन सबसे बुरा दिन साबित हो गया.

सदस्यता समारोह के बाद मीडिया से बात करते हुए मुकुल रॉय ने दिल्ली में दावा किया कि भगवा पार्टी का निकट भविष्य में 60 नगर पालिकाओं पर नियंत्रण हो सकता है. उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि अगले दो-तीन महीनों में भाजपा राज्य में 55-60 नगर पालिकाओं पर नियंत्रण हासिल कर लेगी.”

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय इस मौके पर कहा कि बंगाल में जिस तरह सात चरणों में चुनाव हुआ वैसे ही अलग-अलग चरणों में जो लायक होगा बीजेपी ज्वाइन करेंगे. “ममता जी को 2021 तक शुभकामना, लेकिन अगर उनके लोग ही छोड़-छोड़कर आ जाएं तो हम कुछ नहीं कर सकते”.

लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अन्य भाजपा नेताओं ने दावा किया था कि आम चुनाव खत्म होते ही तृणमूल के लगभग 100 विधायक भाजपा में शामिल हो सकते हैं. मोदी ने यहां तक कहा था कि तृणमूल के 40 विधायक उनके संपर्क में हैं.

shares